भोपाल। वर्ष 2003 के पहले भी मध्य प्रदेश में खेती तो होती थी पर देश में कहीं भी चर्चा नहीं होती थी। आज मध्य प्रदेश की तुलना पंजाब और हरियाणा से होती है। एक समय में मध्य प्रदेश देशभर में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क बनाने में अव्वल था लेकिन अब कृषि सहित अन्य योजनाओं के क्रियान्वयन में अग्रणी राज्य है। यह बात केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने गुरुवार को भोपाल के मिंटो हाल में जनकल्याण और सुराज अभियान के तहत कृषि विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कही। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों को फसल चक्र में परिवर्तन करने का सुझाव दिया। साथ ही कृषि मंत्री कमल पटेल से कहा कि प्रदेश में फिर से कृषि महोत्सव किए जाएं और किसानों को नई तकनीकों की जानकारी दी जाए। कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों के जीवन में सुधार लाने के लिए ठोस कदम उठा रहे हैं। किसी किसान ने सम्मान निधि की मांग नहीं की थी पर प्रधानमंत्री की सोच है कि छोटे क्षेत्र (रकबा) वाले किसानों की सहायता होनी चाहिए। कृषक उत्पादक संगठन के गठन और कृषि अधोसंरचना निधि से किसानों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि किसान ही उत्पादक और सबसे बड़ा उपभोक्ता भी है। जब उसकी जेब में पैसा होगा तभी बाजार चलेंगे। वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कृषि लागत घटाने के लिए शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण दे रहे हैं। ग्रीष्मकालीन मूंग खरीदने से किसानों को प्रति क्विंटल तीन हजार रुपये का फायदा हुआ। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ से सवाल किया कि वर्ष 2018-19 के फसल बीमा की राशि जमा क्यों नहीं की थी। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह कहते थे कि नर्मदा का पानी क्षिप्रा में नहीं पहुंच सकता है पर हमने यह कर दिखाया। केन-बेतवा लिंक परियोजना पर सहमति हो चुकी है। उन्होंने किसानों को फसल चक्र परिवर्तन करने का सुझाव दिया। कृषि मंत्री कमल पटेल ने विभाग की योजनाओं और उपलब्धियों की जानकारी देते हुए कहा कि समर्थन मूल्य पर चना, मसूर, सरसों और मूंग खरीदकर दस हजार करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने किसानों से संवाद भी किया। इस दौरान बीज ग्रामों का शुभारंभ, कृषक उत्पादक संगठनों का गठन, बीज के मिनी किट का वितरण और कृषि अधोसंरचना निधि के तहत राशि का वितरण किया गया। प्रधानमंत्री के लिए अब रेड कारपेट बिछाते हैं देश : केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि चुनाव के समय किसानों की बात होती थी पर सत्ता में आने के बाद कोई ठोस कदम नहीं उठाता था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक के बाद एक ठोस कदम उठाए। कई क्षेत्रों में सुधार किया। यही वजह है कि आज विश्व के सभी देश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए रेड कारपेट बिछाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here