बागपत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनसभा को संबोधित करने के साथ ही देश को नायाब तोहफा देने के लिए बागपत पहुंच गए हैं। मेरठ ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे के उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी तथा उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में एनडीए सरकार के चार वर्ष साल पूरा होने पर आपका यह प्रधानसेवक फिर आपके सामने नतमस्तक है। उन्होंने कहा कि जनता-जनार्दन की सेवा ही हमारा परम सौभाग्य है। उन्होंने कहा कि आज बागपत, पश्चिम यूपी और दिल्ली-एनसीआर वालों के लिए बहुत बड़ा दिन है। दो बहुत बड़ी सड़क परियोजनाओं का आज लोकार्पण किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत माता की जय के साथ संबोधन शुरू किया। कहा कि चार वर्ष पहले अपार जन समर्थन के साथ आपने मुझे पूरे देश की सेवा करने का अवसर दिया। यह अपार जनसमूह बताता है कि चार सालों में हमारी सरकार देश को सही द‍िशा में ले जा रही है। आज बागपत, पश्चिमी उत्तर प्रदेश व एनसीआर वालों के लिए बहुत बडा दिवस है। आज इस नई सडक पर चलकर अनुभव किया कि 14 लेन का सफर एनसीआर के लोगों के लिए क‍ितना सुखद अनुभव देने वाला है। मोदी ने कहा कि मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे के पहले चरण का उदघाटन आज हो चुका है। बहुत जल्द ही दूसरे चरण का भी उदघाटन होगा। पीएम ने कहा कि दिल्‍ली एनसीआर में जाम के साथ ही प्रदूषण भी बहुत बडी समस्या है। इसी से निपटने के लिए दिल्ली के चारों ओर एक्सप्रेस वे का घेरा बनाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रदूषण भी एक बडी समस्या है जो साल दर साल व‍िकराल रूप ले रही है।प्रदूषण का एक बडा कारण गाड‍ियां हैं। हमने द‍िल्ली के चारों आेर सड़क का एक घेरा बनाने का बीडा उठाया। जिसके लिए हम लगातार प्रयासरत हैं। ईस्टर्न पेरीफेरल देश का पहला एक्सेस कंट्रोल एक्सप्रेस-वे है। समय की बचत, प्रदूषण भी कम और र्इंधन भी कम खर्च होगा इस एक्सप्रेस-वे पर। ढांचागत व‍िकास भेदभाव रहित होकर किया जाता है, ताकि सबके लिए समान विकास के अवसर बन सकें।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस वर्ष के बजट में भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत 5 लाख करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। इसके तहत लगभग 35 हज़ार किलोमीटर हाईवे बनाए जा रहे हैं। बीते चार साल ने हमने 3 लाख करोड का खर्च 28 हजार किलोमीटर हाईवे बनाने में किया है। चार साल पहले एक दिन में 12 किलोमीटर हाईवे बनते थे आज यह 27 किलोमीटर पहुंच गया है। देश में भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत 35 हजार किलोमीटर हाईवे का न‍िर्माण किया जा रहा है। हम ट्रेनों को सुव‍िधा युक्त सुरक्षित बनाने के लिए काम कर रहे हैं। इसके अलावा हवाई सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए भी हम काम कर रहे हैं। देश में 100 से ज्यादा वाटर वेज (पानी अडडे) बनाए जा रहे हैं। जल्द ही मालवाहक जहाज यूपी में पर‍िवहन शुरू करेंगे। गंगा की तरह यमुना के लिए भी योजना बन रही है। रोजगार देने के लिए इस साल बजट में यूपी में ड‍िफेंस कॉरीडोर बनाने की घोषणा की गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के हर गांव को इंटरनेट से जोडा जा रहा है। कांग्रेस केवल 59 पंचायतों को ऑप्ट‍िकल फाइबर से जोड़ पाई थी। हमने चार साल में 1 लाख पंचायतों को इससे जोडा है। देश में उत्पादन को बढावा द‍िया जा रहा है। देश में चार साल पहले मोबाइल बनाने वाली 2 फैक्ट्रियां थी आज 120 फैक्ट्रियां देश में मोबाइल फोन बनाती हैं। रोजगार में एमएसएमई सेक्टर में खेती के बाद सबसे ज्यादा अवसर मौजूद होते हैं। इसको बढावा देने के लिए केंद्र सरकार व यूपी सरकार मिलकर काम कर रही है। यूपी सरकार ने वन डि‍स्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट का एक महत्वपूर्ण न‍िर्णय लिया।

ओबीसी समुदाय में सब कैटेगरी बनाने के लिए हमने कमेटी का गठन किया –

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश में महिला सशक्त‍ि‍करण की दिशा में अभूतपूर्व काम कर रहे हैं। महिलाओं के साथ अनुसूचित जात‍ि व प‍िछडों के उत्थान के लिए हमने चार साल में कई महत्वपूर्ण फैसले ल‍िए। मुद्रा योजना के तहत जो लगभग 13 करोड़ लोन दिए गए हैं, उनमें से 75 प्रतिशत से अधिक महिला उद्यमियों को मिले हैं। बीते चार वर्ष में हमने बेटियों को सम्मान दिया और सशक्त बनाया है। ज‍िनके मन में स्वार्थ है वे सर्फ घड‍ियाली आंसू बहाने वाली राजनीत‍ि करते आए हैं। अनुसूचित जात‍ि अत्याचार से जुडे मामलों की सुनवाई के लिए अलग कोर्ट का गठन किया जा रहा है। ओबीसी समुदाय में सब कैटेगरी बनाने के लिए हमने कमेटी का गठन किया है। ओबीसी समुदाय के उत्थान के लिए उठाए कदम को मैं पूरा करके रहूंगा। द‍ल‍ित ओबीसी के कल्याण को उठाए गए कदमों में कांग्रेस रोडे अटकाती है। कांग्रेस को देश के व‍िकास के लिए किए गए हर काम में मजाक सूझता है। गरीब के ल‍िए किए जा रहे हम काम को ये मजाक समझते हैं। अपने स‍ियासी फायदे के लिए ये सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर खुलेआम झूठ बोलते हैं। अफवाह फैलाकर ये लोगों को भ्रम‍ित करने की सा‍ज‍िश करते हैं। चुनाव में पराज‍ित लोग देश के गरीब किसान को गुमराह कर रहे हैं। हमारी सरकार के लिए सौभाग्य की बात है कि हम बाबा साहब आंबेडकर से जुड़े पांच स्थानों को पंच तीर्थ के तौर पर विकसित कर रहे हैं।

गांव के साथ शहर के ढांचागत व‍िकास पर ध्यान दे रहे –

आप अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ श‍िकायत करें, कानून की मदद लें। इस बार बजट में गांव किसान को ढांचगत रूप से मजबूत करने के लिए 14 लाख करोड का प्रावधान किया है। दोनों प्रदेश की सरकारे गरीब किसान के उत्थान के ल‍िए अभूतपूर्व योगदान कर रही हैं। किसानों के लिए आधुनिक व‍िकल्पों को बढावा द‍िया जा रहा है। पिछले वर्ष ही हमने गन्ने का समर्थन मूल्य 11 प्रतिशत तक बढ़ाया। सरकार ने तय किया है कि प्रत‍ि कुंतल गन्ने पर 5 रूपये आर्थ‍िक मदद दी जाएगी जो चीनी म‍िल के बजाए सीधे किसानों के खातों में जाएगी। हम गांव के साथ शहर के ढांचागत व‍िकास पर ध्यान दे रहे हैं। 2004 से 2014 तक कुल साढे 13 लाख घर शहरों में न‍िर्माण के लिए मंजूर किए गए। चार लाख में हमने 13 गुना घर शहरों में न‍िर्माण के लिए मंजूर किए। हम गंगा सफाई को प्राथमिकता देने के साथ यह भी सुन‍िश्च‍ित कर रहे हैं कि शहरों का सीवर गंगा में न जाए। हमारी कार्यप्रणाली बातों में उलझाने के बजाय काम करके द‍िखाने की है। सभी परियोजनाओं से कांग्रेस कल्‍चर को हटाने को काम किया जा रहा है। 70 साल ज‍िन्होंने जनता के साथ छल किया आज वे हमारी सरकार हमारे कामों पर उंगली उठा रहे हैं। चार साल में हुए काम के बाद इस गर्मी में भी इतना जन सैलाब उन्हें सोने नहीं दे रहा है। देश की जो एजेंसी इनके काले कारनामों की जांच कर रही ये उसे कठघरे में खडा कर रहे हैं। देश का मीड‍िया इन्हें पक्षपाती दिख रहा है। आप बराबर जांच कर देख‍ ल‍ीज‍िए। उस तरफ उनका पर‍िवार ही उनका देश है। मेरे ल‍िए देश के लोग मेरा पर‍िवार हैं। यह सडक 21 सदी में होने वाले व‍िकास का सैंपल है।

उत्तर प्रदेश व हरियाण के विकास को नया आयाम मिला : योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर प्रधानमंत्री के साथ ही सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे के लोकार्पण के अवसर पर प्रदेश की जनता की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार करता हूं। उन्होंने कहा कि इस ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे को 500 दिनों के अंदर इस एक्सप्रेसवे का निर्माण करके नितिन गडकरी के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने जो एक नई कार्यसंस्कृति को जन्म दिया है।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज का दिन उत्तर प्रदेश के साथ हरियाणा के महत्वपूर्ण है। एनएचएआई ने सडक परिवहन मंत्रालय के साथ मिलकर एक नई कार्यप्रणाली अपनाई है। किसानों के गन्ना मूल्य का भुगतान अब तक 21 हजार करोड हो चुका है। कोई किसान गन्ना मूल्य भुगतान से वंचित नहीं रहेगा। प्रदेश गावों के विकास महिलाओं के उत्थान व युवाओं तक रोजगार पहुंचाने को तत्पर है। जिन बुराइयों ने प्रदेश को निचले स्‍तर पर धकेला है, उन सभी से उभरकर उत्‍तर प्रदेश नई बुलंदियों को छूते हुए, पूरी प्रतिबद्धता के साथ विकास पथ पर आगे बढ़ रहा है।

आज देश के ढांचागत विकास का सुनहरा दिन : नितिन गडकरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने जनसभा में कहा कि आज देश के ढांचागत विकास का आज सुनहरा दिन है। इस बार 18 महीने में पूरा हुआ हाईवे निर्माण का लक्ष्य। इस पर 48 किलोमीटर का साइकिल ट्रैक बनाया गया है। अब लोग 40 मिनट में बागपत से दिल्ली पहुंचेंगे। यहां पर किसानों की जमीन के लिए बाजार भाव से अच्छी कीमत दी गई है।

हमने 910 दिन का काम 500 दिन में पूरा किया है। इसके निर्माण में पांच लाख टन सीमेंट का उपयोग किया गया। यह केवल सरकार नहीं बल्कि इसमें काम करने वाले हर व्यक्ति के सहयोग से यह काम संभव हो सका है। इस शानदार एक्सप्रेस-वे के किनारे पर ढाई लाख पेड़ लगाए गए हैं। इसके साथ ही राष्ट्रीय स्मारकों व देश के इतिहास विरासत के प्रतीकों को स्थापित किया गया है। इसी हाईवे की तर्ज पर दिल्ली सहारनपुर देहरादून हाईवे का निर्माण कराया जाएगा। हम दिल्ली के प्रदूषण को कम करना चाहते हैं।

ईस्टर्न व वेस्टर्न हाईवे मिलकर दिल्ली के ट्रैफिक को कम करेंगे : खट्टर

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि ईस्टर्न व वेस्टर्न हाईवे मिलकर दिल्ली के ट्रैफिक को कम करेंगे। हरियाणा की ओर से केंद्र सरकार का आभार व्यक्त करता हूं। ढांचागत विकास, सामाज‍िक विकास पर ध्यान देने के साथ हम आम चुनाव 2019 की तैयारी कर रहे हैं।

इस एक्सप्रेस-वे का शिलान्‍यास कुंडली में हुआ था और लोकार्पण बागपत से हो रहा है। यह दो राज्यों के अपसी व आर्थिक संबंधों का बढावा देगा। ईस्टर्न व वेस्टर्न मिलाकर जो 270 किलोमीटर की रिंग बनेगी उससे दिल्ली के साथ यूपी व हरियाणा को भी लाभ मिलेगा। हम ढांचागत व‍िकास के साथ कानून व्यवस्था को भी लगातार सुधारने के प्रयास में हैं।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के निजामुद्दीन-यूपी बार्डर खंड पर रोड शो किया। उन्होंने 11,000 करोड़ रुपए की लागत से तैयार देश के पहले स्मार्ट और ग्रीन हाईवे ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे (ईपीई) का उद्घाटन किया। कुल 135 किलोमीटर लंबे इस एक्सप्रेस वे पर 11,000 करोड़ रुपए की लागत आई है। यह देश का पहला हाईवे है, जहां सौर बिजली से सड़क रोशन होगी। इसमें 36 राष्ट्रीय स्मारकों को प्रदर्शित किया जाएगा और 40 झरने होंगे। इसे रिकार्ड 500 दिनों में पूरा किया गया है। प्रधानमंत्री निजामुद्दीन-रिंग रोड जंक्शन से पटपडग़ंज पुल तक के हिस्से का कार से मुआयना किया। वहां से वापस लौटने के बाद वह तत्काल हेलीकाप्टर से बागपत पहुंचे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार के चार वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के एक दिन बाद यानी आज देश को बड़ा तोहफा दिया। बागपत के खेकड़ा कस्बे में पीएम मोदी 11,000 करोड़ रुपए की लागत बन रहे देश के पहले स्मार्ट- हरित राजमार्ग ‘ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे’ (ईपीई) का उद्घाटन किया।

उनके साथ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, सत्यपाल सिंह, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, हरियाण के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर सहित केंद्र व योगी आदित्यनाथ सरकार के कई कैबिनेट मंत्री हैं। इससे पहले आज करीब 8:30 बजे ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे को एसपीजी ने अपने कब्जे में ले लिया।

पीएम नरेंद्र मोदी 1.05 बजे वापस कुंडली पहुंचेंगे और यहां से 1.15 बजे हेलीकॉप्टर से वापस जाएंगे। इस एक्सप्रेस वे से दिल्ली-एनसीआर में शामिल उत्तर प्रदेश के बागपत, गाजियाबाद व गौतमबुद्धनगर तथा हरियाणा के सोनीपत, फरीदाबाद व पलवल जनपद जुड़े हैं। ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे 135 किमी लंबा है। इस पर मल्टीपल एंट्री व एग्जिट प्वाइंट बनाए गए हैं।

इसमें सात इंटरचेंज हैं। 11000 करोड़ रुपए की लागत से बने इस एक्सप्रेस वे के निर्माण की अधिसूचना 2006 में जारी हुई। मुआवजे के पेंच में यह निर्माण प्रारंभ नहीं हो सका। केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद इसका निर्माण तेजी से शुरू हुआ।

इस एक्सप्रेस वे पर अधिकतम स्पीड 120 किमी प्रति घंटा रखी गई है। इस एक्सप्रेस वे से दिल्ली में रोज करीब 52 हजार वाहनों का भार कम होगा। ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे पलवल से कुंडली तक है।

पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन समारोह बागपत के मवीकलां स्टेडियम में होगा। यह देश का पहला राजमार्ग है जहां सौर बिजली से सड़क रोशन होगी। इसके अलावा प्रत्येक 500 मीटर पर दोनों तरफ वर्षा जल संचय की व्यवस्था होगी। एक्सप्रेसवे पर 8 सौर संयंत्र हैं जिनकी क्षमता 4 मेगावाट है। इसे रिकॉर्ड 500 दिन में पूरा किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस परियोजना के लिए आधारशिला पांच नवंबर, 2015 को रखी थी। यह देश का पहला एक्सिस कंट्रोल हाईवे है और वाहनों को उनकी यात्रा के बराबर टोल चुकाना होगा। इस हाईवे के शुरू होने से दिल्ली पर पडऩे वाला वाहनों का बोझ कम हो जाएगा, जिससे राजधानी की एयर क्वालिटी में भी सुधार होगा।

हाईवे कुंडली, मवीकलां (एनएच-57), दुहाई (एनएच-58), डासना (एनएच-24), बील अकबलपुर (एनएच-91) को जोड़ते हुए कासना-सिकंदरा, फैजपुर खादर से होते हुए हरियाणा के पलवल से जुड़ेगा। ईस्टर्न एक्सप्रेसवे पर टोल टैक्स लगेगा। मगर अभी तक दर तय नहीं हुई है। शुरुआती दिनों में एक्सप्रेसवे टोल टैक्स मुक्त रहेगा। इस एक्सप्रेसवे पर हाईवे की अपेक्षा सवा गुना दर रहेंगी। हर एंट्री प्वॉइंट पर चालक को पर्ची मिलेगी।

ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे की खासियत –

– 135 किलोमीटर लंबा यह एक्सप्रेस-वे गाजियाबाद, फरीदाबाद, पलवल और ग्रेटर नोएडा के बीच सिग्नल फ्री कनेक्टिविटी को मजबूत करेगा।

– इस एक्सप्रेस-वे पर लाइटिंग की पूरी सुविधा सोलर पैनल के जरिए की जाएगी। यही नहीं इसका दृश्य भी बेहद सुंदर होगा। इस एक्सप्रेस-वे के किनारों पर तकरीबन 2.5 लाख पेड़ लगाए जाएंगे।

– अब तक उत्तर प्रदेश से हरियाणा और हरियाणा से उत्तर प्रदेश जाने वाले तकरीबन दो लाख वाहन प्रतिदिन दिल्ली से होकर सफर करते थे। इसके शुरू होने पर वाहन दिल्ली को बाईपास कर निकलेंगे, जिससे प्रदूषण में कमी आएगी।

– नेशनल एक्सप्रेस-वे 2 कहे जाने वाले इस मार्ग पर पेट्रोल पंप, रेस्ट एरिया, होटल, रेस्तरां, दुकानों और रिपेयर सर्विसेज की सुविधा उपलब्ध रहेगी।

– हर 500 मीटर की दूरी पर रेनवॉटर हार्वेस्टिंग की भी व्यवस्था होगी। ड्रिप इरिगेशन की तकनीक के चलते इस पानी से ही पेड़ों की सिंचाई भी होगी।

– स्वच्छ भारत मिशन को ध्यान में रखते हुए हर 2.5 किलोमीटर की दूरी पर टॉयलेट्स बनाए गए हैं। पूरे मार्ग पर 6 इंटरचेंज, 4 फ्लाईओवर, 71 अंडरपास और 6 आरओबी हैं। इसके अलावा यमुना और हिंडन पर दो बड़े पुल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here