भोपााल। पूर्व राज्यसभा सांसद व भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश सारंग का पार्थिव शरीर रविवार सुबह विशेष विमान से मुंबई से भोपाल लाया गया था। पहले पार्थिव देह को 74- बंगले स्थित निज निवास पर रखी गई। शिवराज सरकार के कई मंत्री व भाजपा नेता उनके अंतिम दर्शनों के लिए पहुंचे। उन्हें पुष्प अर्पित किए। दोपहर तीन बजे भाजपा कार्यालय लाया गया। उनके पार्थिव शरीर पर तिरंगा लपेटा और गार्ड आफ आनर दिया गया। भाजपा कार्यालय में अंतिम दर्शन के बाद सुभाष नगर विश्राम घाट के लिए ले जाया गया है। यहां चार बजे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम दर्शन करने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी,रघुनंदन शर्मा, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुरेश पचौरी के साथ दूसरे बड़े नेताओं अंतिम दर्शन करने पहुंचें। सुभाष नगर विश्राम घाट पर कैलाश सारंग का अंतिम संस्कार किया गया। उनका पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन हो गया। सुभाष नगर विश्राम घाट पर भी बड़ी संख्या में भाजपा के कई नेता व कार्यकर्ता उपस्थित रहे। बात दें कि शनिवार दीपावली को मुंबई के एक अस्पताल में कैलाश सारंग का निधन हो गया था। वो 87 साल के थे। दो नवंबर को तबीयत खराब होने से एयर एंबुलेंस से भोपाल से मुंबई ले जाया गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पूर्व सांसद और कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग के पिता कैलाश सारंग के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।
विशेष विमान से लाए गए कैलाश सारंग के पार्थिव शरीर को सीएम शिवराज सिंह ने कंधा दिया

भोपाल। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व राज्यसभा सदस्य कैलाश सारंग के पार्थिव शरीर को आज सुबह विशेष विमान के जरिए मुम्बई से भोपाल लाया गया। इस मौके पर एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह समेत भाजपा के अनेक नेता मौजूद थे। स्टेट हैंगर पर स्वयं मुख्यंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैलाश सारंग के पार्थिव शरीर को कंधा दिया। इसके बाद उनके पार्थिव शरीर को नेवरी मंदिर, लालघाटी, रॉयल मार्केट, शीश महल और पॉलीटेक्निक चौराहा होते हुए 74 बंगला स्थित उनके निवास पर ले जाया लाया गया, जहां स्थानीय लोगों ने उनके अंतमि दर्शन किए। दोपहर क रीब तीन बजे उनका पार्थिव शरीर भाजपा कार्यालय ले जाया गया, जहां पर पार्टी नेताओं व कार्य कतार्ओं के साथ-साथ अन्य लोग भी उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। कुछ देर बाद सुभाष नगर विश्राम घाट के लिए उनकी अंतिम यात्रा निकलेगी, जहां शाम को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।विशेष विमान से लाए गए कैलाश सारंग के पार्थिव शरीर को सीएम शिवराज सिंह ने कंधा दिया, गौरतलब है कि वर्तमान में मप्र सरकार में चिकित्‍सा शिक्षा मंत्री विश्‍वास सारंग के पिता कैलाश सारंग भाजपा के संस्थापक सदस्य थे। वह पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे और 14 नवंबर को मुंबई के एक अस्पताल में इलाज के दौरान उनका निधन हो गया था। पहले उनका भोपाल में ही इलाज चल रहा था, लेकिन सेहत बिगड़ने पर बीते एक नवंबर को एयर एम्बुलेंस के जरिए उन्हें मुंबई ले जाया गया था।

पीएम मोदी ने जताया शोक : कैलाश सारंग के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए अपनी शोक संवेदनाएं व्‍यक्‍त कीं। उन्‍होंने लिखा- ‘कैलाश सारंग जी ने मध्यप्रदेश में बीजेपी को मजबूत करने में अहम भूमिका निभाई। वे मध्यप्रदेश की उन्नति के लिए एक संवेदनशील और कर्मठ नेता थे। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और शुभचिंतकों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। ॐ शांति।

सीएम शिवराज सिंह ने भी व्यक्त की शोक संवेदना : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व सांसद, वरिष्ठ राजनेता और चिंतक कैलाश सारंग के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश में जनसेवा को जीवन भर अपनाने वाले कैलाश सारंग समर्पित समाज सेवी थे। उनकी संगठन क्षमता अद्भुत थी। उन्होंने लाखों समाजसेवक तैयार किए। वे अपनी युक्ति और बुद्धि से निरंतर प्रयत्न करते हुए किसी भी संगठन को नई शक्ति प्रदान करते थे। वे एक लेखक कवि और पत्रकार भी थे। भोपाल उनके बिना अधूरा हो गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कैलाश सारंग का निधन उनके लिए व्यक्तिगत क्षति भी है। उन्होंने सदैव दुविधा से निकालने में सभी को सहयोग किया। उनके निधन से जो शून्य पैदा हुआ है, उसे भरना मुश्किल होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश की जनता की ओर से सारंग को श्रद्धांजलि देते हुए प्रार्थना की कि ईश्‍वर शोकाकुल सारंग परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here