ग्वालियर : कोरोना काल के दौर में मध्य प्रदेश की सियासत में पोस्टर वार छिड़ गया है. छिंदवाड़ा में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ और सांसद नकुलनाथ के लापता होने के पोस्टर के बाद अब ग्वालि यर में कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में आए पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के गुमशुदगी के पोस्टर लगाए गए हैं. इतना ही नहीं, सिंधिया को खोजने वाले को 5100 रूपये के इनाम का ऐलान किया गया है. इन पोस्टर को लगाने वाले का नाम सिद्धार्थ सिंह राजावत लिखा हुआ है. बताया जा रहा है कि सिद्धार्थ सिंह राजावत प्रदेश किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष है. बता दें कि लॉकडाउन के चलते ज्योतिरादित्य सिंधिया इस समय दिल्ली में हैं. इन पोस्टर को कुछ लोगों ने ग्वालियर के सिंधिया पैलेस के बाहर लगाए. पोस्टर के बीच में ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर लगी और पोस्टर में ऊपर लिखा है, ‘तलाश, गुमशुदा जनसेवक की.’ पोस्टर के नीचे लिखा गया है, ‘कांग्रेस में रहकर जो जनसेवा नहीं कर पा रहे थे, जो कोरोना महामारी के समय मजदूरों की आवाज नहीं उठा सके, जिन्हें रोड पर उतरने का शौक था, वे आज गुमशुदा हैं.’ इसके अलावा इस पोस्टर में सिंधिया की तलाश करने वाले को 5100 रुपये का नगद इनाम देने का ऐलान किया गया है. इससे पहले कोविड-19 के लिए लगे देशव्यापी लॉकडाउन के बीच छिंदवाड़ा में कमलनाथ और उनके सांसद बेटे नकुलनाथ के लापता होने के पोस्टर लगाए गए थे. उनके इस गढ़ में इन दोनों नेताओं को लाने वाले व्यक्ति को 21,000 रूपये इनाम देने का ऐलान किया गया था. बता दें कि मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ छिंदवाड़ा विधानसभा सीट से विधायक हैं, जबकि उनके बेटे नकुलनाथ से छिंदवाड़ा लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. छिंदवाड़ा शहर के विभिन्न स्थानों पर इन दोनों नेताओं की फोटो लगे पोस्टरों में लिखा था, ‘गुमशुदा की तलाश. छिंदवाड़ा के विधायक और सांसद को इस संकट काल में छिंदवाड़ा की जनता ढूंढ रही है. जो इन्हें छिंदवाड़ा लेकर लाएगा, उसे 21,000 रुपये का नगद इनाम दिया जाएगा.’ इन पोस्टरों को देखने के बाद स्थानीय कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुलिस थाने में थाना प्रभारी को ज्ञापन देकर दोषियों के खिलाफ उचित कार्रवाई करने की मांग की थी. इसके बाद अब सिंधिया के पोस्टर लगाए जाने के बाद राज्य की सियासत गरमाने लगी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here