भोपाल. मध्यप्रदेश किसान कांग्रेस के नेता दिनेश गुर्जर द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ‘भूखे नंगे घर’ का बताने वाले बयान पर चौहान ने जवाब देते हुए सोमवार को कहा कि हां, वह भूखे-नंगे परिवार से हैं, इसलिये गरीबों का दुख-दर्द समझते हैं जो कि एक उद्योगपति नहीं समझ सकता. मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा के उपचुनाव के प्रचार अभियान के तहत पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के मौजूदगी में अशोक नगर जिले के राजपुर कस्बे में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए गुर्जर ने रविवार को कहा था, ‘कमलनाथ देश के दूसरे नंबर के उद्योगपति हैं. शिवराज की तरह भूखे नंगे घर के नहीं हैं. वो खुद को किसान नेता कहते हैं.’ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस बयान पर प्रतिक्रिया दी है. कांग्रेस के नेता कहते हैं कि शिवराज भूखे-नंगे घर का है।हाँ, मैं भूखे-नंगे घर का हूं। मैंने बीमारियाँ, गरीबी, समस्याएँ देखी है। मैं गरीबों का दर्द जनता हूँ। उद्योगपति यह क्या जानें! परवाह, विधानसभा बामौरी,ज़िला गुना में कार्यकर्ता सम्मेलन में भाग लिया। गुर्जर के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए चौहान ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘ हां… मैं ‘नंगे-भूखे’ परिवार से हूं, इसी लिए उनका दुःख-दर्द समझता हूं. हां, मैं गरीब हूं इसी लिए गरीब बेटे-बेटियों को मामा बन पढ़ाता हूं. गरीब हूं इसीलिए गरीब मां-बाप की बेटियों का कन्यादान करता हूं. गरीब हूं, इसी लिए हर गरीब का दर्द समझता हूं, प्रदेश को समझता हूं.’ चौहान ने सोमवार को गुना जिले के बामोरी में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस नेता कहते हैं कि शिवराज भूखे-नंगे घर का है. हां, मैं भूखे-नंगे घर का हूं. मैंने बीमारियां, गरीबी, समस्याएं देखी हैं. मैं ग़रीबों का दर्द जानता हूं. उद्योगपति क्या जानें.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here