नई दिल्ली। तेज बारिश ने देश के कई कोनों में आफत के रूप में बरस रही है। बिहार में भी बारिश से बेहाल है। भारी बारिश के बाद सड़क से लेकर घरों तक पानी भर गया है। पटना समेत कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात हैं। बारिश और बाढ़ से राज्य में अबतक 17 लोगों की मौत हो चुकी है। बिहार की राजधानी पटना में बारिश का पानी जेडीयू के दफ्तर में भी घुस गया है। पटना के कई इलाकों में बड़े स्तर पर हात और बचाव का काम चलाया जा रहा है। कई जगहों पर रेल ट्रैक पर पानी जमा है। राजधानी पटना में बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं। वहीं, नालंदा मेडिकल कॉलेज में वार्ड और आईसीयू तक में भी पानी भर गया है। उत्तर प्रदेश में बारिश से जान-माल का काफी नुकसान हुआ है। गत दो दिनों में हुई भयंकर बारिश के कारण अब तक करीब 80 लोगों की जान जा चुकी है। राज्य में बाढ़ की स्थिति पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसे प्राकृतिक आपदा बताते हुए कहा कि ये स्थिति किसी के हाथ में नहीं होती, ये आपदा प्राकृतिक है। मौसम विभाग भी सुबह कुछ कहता है और दोपहर में कुछ होता है। राज्य प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है और लोगों की मदद की जा रही है। इधर, मौसम विभाग ने 15 जिलों में रेड अलर्ट जारी कर दिया है। मतलब साफ है कि स्थिति अभी और बिगड़ सकती है। बता दे, बिहार में भारी बारिश का कहर लगातार जारी है। भारी बारिश से पश्चिम चंपारण के बगहा में भी बुरा हाल है। कई नदियां उफान पर हैं और कई जगहों पर तटबंधों में कटाव भी जारी है। बगहा में पिपरा-पिपरासी तटबंध पर भी खतरा बढ़ गया है। अमवा खास तटबंध पर तेजी से गंडक नदी का कटाव हो रहा है। भागलपुर में बारिश के चलते तीन अलग-अलग जगहों पर दीवार गिरने की खबर है, जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई है जबकि कुछ लोगों के मलबे में दबने की आशंका है। बरारो थाना क्षेत्र के बड़ी खंजरपुर में दीवार गिरने से दो लोगों की मौत हुई है। वहीं खगौल में भारी बारिश की वजह से एक पेड़ गिर गया। इस हादसे में 4 लोगों की मौत हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here