कराची : पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का एक पैसेंजर प्लेन शुक्रवार को कराची के रिहाइशी इलाके में क्रैश हो गया। पीआईए की फ्लाइट पीके 8303 लाहौर से कराची आ रही थी। एयरपोर्ट से कुछ किलोमीटर की दूरी पर और लैंडिंग से चंद मिनट पहले प्लेन का इंजन फेल हो गया। उसमें आग लग गई और वह जिन्ना इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचने से पहले ही क्रैश हो गया। प्लेन में 91 यात्री और 7 क्रू मेंबर में सवार थे। इनमें 51 पुरुष, 31 महिलाएं और 9 बच्चे शामिल थे। अधिकारियों ने अब तक 57 मौतों की पुष्टि की है। इनमें एक 5 साल का एक बच्चा और एक सीनियर जर्नलिस्ट अंसारी नकवी भी शामिल हैं। अभी यह निश्चित नहीं है कि सभी शव यात्रियों के हैं या फिर इनमें से कुछ कॉलोनी के निवासी हैं। अधिकारियों ने विमान में सवार दो यात्रियों बैंक ऑफ पंजाब के प्रेसीडेंट जफर मसूद और जुबैर के सुरक्षित होने की पुष्टि की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस हादसे पर दुख जताया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस हादसे कहा कि हादसे से दुखी हूं पर अभी हमारी प्राथमिकता राहत और बचाव कार्य हैं। यह प्लेन कराची में मॉडल कॉलोनी के जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा। वहां कई घरों में आग लग गई। इस इलाके को मलीर भी कहा जाता है। पाकिस्तान की सिविल एविएशन अथॉरिटी के मुताबिक, पायलट ने एयर ट्रैफिक कंट्रोलर को इंजन फेल हो जाने के बारे में बताया, लेकिन लैंडिंग से ठीक एक मिनट पहले संपर्क टूट गया। आखिरी बातचीत में पायलट ने कहा था- इंजिन फेल हो गया
विमान के पायलट की एयर ट्रैफिक कंट्रोल से बातचीत का आखिरी ऑडियो सामने आया है। इसमें पायलट ने कहा था कि इंजन फेल हो गया है। अधिकारियों ने लैंडिंग के लिए दोनों रनवे खाली करवा लिए थे, लेकिन पायलट ने विमान घुमा दिया। एटीसी का कहना है कि पायलट ने किस वजह से ऐसा किया, यह अभी जांच का विषय है। पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की : पायलट का नाम सज्जाद गुल है। चश्मदीदों का कहना है कि पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की। इसी वजह से कम घरों को नुकसान पहुंचा। प्लेन में एक को-पायलट और तीन एयर होस्टेस भी थीं। पीआईए के प्रवक्ता ने जियो न्यूज से कहा- यह प्लेन ए-320 था और 15 साल पुराना था। प्लेन क्रैश होने के बाद कराची की मॉडल कॉलोनी में कई घरों में आग लग गई।
पाकिस्तान की एयरपोर्ट अथॉरिटी पर सवाल
जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, जिन्ना इंटरनेशनल एयरपोर्ट के काफी पास तक दो से तीन मंजिला मकान बने हुए हैं। जबकि एयरपोर्ट के इतने नजदीक घर बनाने की इजाजत नहीं होनी थी। अगर एयरपोर्ट के पास रिहाइशी इलाके की इजाजत नहीं होती तो शुक्रवार को हुए इस हादसे की वजह से घरों में आग नहीं लगती। हादसे के बाद पाकिस्तान आर्मी की क्विक रिएक्शन फोर्स और पाकिस्तान रेंजर्स सिंध की एक टीम मौके पर भेजी गई। हेलिकॉप्टर भी रवाना किए गए।तंग गलियों की वजह से फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस को भी मौके पर पहुंचने में दिक्कत आई।
पाकिस्तान में 10 साल में 6 बड़े विमान हादसे
1. 28 जुलाई, 2010- कराची से उड़ान भरने वाली निजी एयरलाइन एयरब्लू के विमान एयरबस 321 लैंड करने के दौरान इस्लामाबाद के बाहर पहाड़ियों में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे सभी 152 लोगों की मौत हो गई।
2. पांच नवंबर, 2010- कराची में टेक-ऑफ के कुछ ही समय बाद एक ट्विन इंजन वाला प्लेन दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें इटली की एक ऑयल कंपनी का स्टाफ था। हादसे में 21 लोग मारे गए।
3. 28 नवंबर, 2010- कराची से उड़ान भरने के बाद जॉर्जियन एयरलाइन सनवे का एलुशइनआईएल-76 कार्गो विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें 12 लोग मारे गए।
4. 20 अप्रैल, 2012- इस्लामाबाद के बाद भोज एयरबस 737 का एक प्लेन क्रैश हो गया, इसमें क्रू मेंमबर समेत 128 यात्रियों की मौत हुई।
5. आठ मई, 2015- पाकिस्तानी सेना का एक हेलीकॉप्टर गिलगित में क्रैश हो गया। इस दौरान आठ लोग मारे गए। इसमें नार्वे, फिलिपींस, इंडोनेशिया के राजदूत और मलेशिया और इंडोनेशिया के दूत की पत्नी भी शामिल थीं।
6. सात दिसंबर, 2016- चितराल से इस्लामाबाद जाने वाला पीआई का एटीआर-42 एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया। दुर्घटना में क्रू मेंबर समेत 48 यात्री मारे गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here