नई दिल्ली : पर्यावरणविद और द एनर्जी ऐंड रिसोर्स इंस्टिट्यूट (टेरी) के संस्थापक डॉ. आर के पचौरी का गुरुवार को दिल्ली की एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। पचौरी को मंगलवार को लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर रखा गया था। उन्हें हृदय की पुरानी परेशानी को लेकर राजधानी दिल्ली के एस्कार्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट में भर्ती कराया गया था। पचौरी इंटरगर्वमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (IPCC) के 2002 से 2015 तक चेयरमैन बी रहे हैं। उन्हें के कार्यकाल में आईपीसीसी को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 79 वर्षीय पचौरी की अस्पताल में ओपन हार्ट सर्जरी हुई थी। पचौरी के एक नजदीकी सूत्र ने बताया कि पचौरी को गत वर्ष जुलाई में मेक्सिको में हार्ट अटैक आया था। सर्जरी के बाद उनकी हालत नाजुक थी और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। पीटीआई के मुताबिक, सूत्रों ने बुधवार को बताया था, ‘उन्हें हार्ट संबंधी दिक्कत थी। उनकी ओपन हार्ट सर्जरी हुई थी और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है।’ पचौरी का जन्म 20 अगस्त 1940 को नैनीताल में हुआ था और बिहार के जमालपुर स्थित इंडियन रेलवे इंस्टिट्यूट ऑफ मकैनिकल ऐंड इलेक्ट्रॉनिक इंजिनियरिंग से पढ़ाई की थी। पचौरी पर उनकी एक पूर्व महिला सहयोगी ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था जिसके बाद उन्होंने टेरी के प्रमुख पद से इस्तीफा दे दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here