गुना। शहरों का भारत की अर्थव्यवस्था में बड़ा योगदान होता है। इसीलिए भारत सरकार ने स्मार्ट सिटी परियोजना शुरू की। वहीं राज्य सरकार ने दूरदर्शिता का निर्णय लेकर मिनी स्मार्ट सिटी योजना लागू की। मुझे खुशी है कि गुना में इसकी शुरूआत हो रही है। इससे जिला और रहवासियों की प्रगति के नए रास्ते खुलेंगे। यह बात राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को गुना में नगरपालिका के आयोजित मिनी स्मार्ट सिटी शुभारंभ समारोह में कही। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी की परियोजना में इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ आर्थिक विकास, सांस्कृतिक वातावरण और शहर की विशिष्ट पहचान का समुचित सिस्टम तैयार होता है। राष्ट्रपति ने कहा कि परिवहन की दृष्टि से भी गुना शहर महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह ग्वालियर और इंदौर के बीच पड़ता है। इससे गुना में विकास की संभावनाएं भी बहुत हैं। इस दौरान उन्होंने स्मार्ट सिटी का मतलब उदाहरण देते हुए समझाया। राष्ट्रपति ने कहा कि मैंने अखबार में पढ़ा था कि ग्वालियर में राजेंद्र शर्मा रहते हैं, जो पेशे से वकील हैं और उनकी पत्नी वार्ड की पार्षद हैं। इसके बाद भी वे प्रतिदिन न केवल सड़क पर झाड़ू लगाते हैं, बल्कि पानी से साफ भी करते हैं। इससे भी हमें प्रेरणा लेनी चाहिए कि स्मार्ट सिटी बनाने में हर व्यक्ति का योगदान जरूरी है। इस मौके पर मप्र की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया, क्षेत्रीय विधायक पन्न्ालाल शाक्य, नपाध्यक्ष राजेंद्र सलूजा आदि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here