• मायावती ने कहा था- बजरंग बली और अली के गठजोड़ से अच्छा रिजल्ट मिलेगा
  • योगी ने कहा था- अगर कांग्रेस, सपा और बसपा को अली पर विश्वास है तो हमें बजरंग बली पर

नई दिल्ली. बसपा ने लोकसभा चुनाव के लिए रविवार को चौथी सूची में 16 उम्मीदवार तय किए। पार्टी ने मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल को गाजीपुर से टिकट दिया है। यहां उनका मुकाबला भाजपा नेता मनोज सिन्हा से होगा। अन्य प्रत्याशियों में सुल्तानपुर से चन्द्रभद्र सिंह, प्रतापगढ़ से अशोक कुमार त्रिपाठी, अम्बेडकर नगर से रितेश पांडेय, डुमरियागंज से आफताब आलम, देवरिया से विनोद कुमार जायसवाल, घोषी से अतुल राय, सलेमपुर से आरएस कुशवाहा, जौनपुर से श्याम सिंह यादव और भदोही से रंगनाथ मिश्रा के नाम शामिल हैं।

bsp

आजम ने कहा- ‘बजरंग अली’ तोड़ दो दुश्मन की नली और ले लो बीजेपी की बलि

आजम ने कहा- ‘बजरंग अली’ तोड़ दो दुश्मन की नली और ले लो बीजेपी की बलि

लोकसभा चुनाव प्रचार में उत्तरप्रदेश में बजरंग बली और अली को लेकर नेताओं के नए-नए बयान सामने आ रहे हैं। सपा नेता और रामपुर के प्रत्याशी आजम खान ने नया नारा दिया है- ‘बजरंग अली, तोड़ दो दुश्मन की नली और बीजेपी की ले लो बलि।’ आजम ने शनिवार को एक रैली में कहा, ”एक साहब बुक्कल नवाब ने कहा कि वो (हनुमानजी) मुसलमान थे, फिर तो बजरंगजी बजरंगजी कहां रहे? अली और बजरंग मिलाकर मैंने नया बनाया।” आजम के बयान पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट किया- ‘’आजम खान, बेगूसराय का चुनाव खत्म होने के बाद रामपुर आकर बताएंगे कि बजरंग बली क्या हैं?”

आजम ने कहा कि योगीजी ने कहा कि हनुमानजी दलित थे और फिर उनके किसी साथी ने कहा कि हनुमानजी ठाकुर थे। फिर पता चला कि वह ठाकुर नहीं जाट थे। फिर किसी ने कहा कि वह श्रीलंका के थे। अली और बजरंग एक हैं। मैं इसके लिए एक नाम देता हूं बजरंग अली। इनमें झगड़ा मत करवाओ। पिछले दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अगर कांग्रेस, सपा, बसपा को अली पर विश्वास है तो हमें भी बजरंग बली पर है। इस बयान को मायावती ने भी रैली में उठाया।

ओवैसी का मोदी और नीतीश की दोस्ती पर बयान

ओवैसी का मोदी और नीतीश की दोस्ती पर बयान

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, ”नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी की आशिकी बड़ी मजबूत है। दोनों में लैला-मजनू से भी ज्यादा मोहब्बत है। जब उनकी मोहब्बत की दास्तां कही जाएगी, मुझसे मत पूछना कि इनमें लैला कौन है और मजनू कौन है। ये आप लोगों को तय करना है। जब से दोनों साथ आए हिंदुस्तान में हिंदू-मुस्लिम तनाव में हैं।”

24 मई को मायावती कहेंगी- मैं गठबंधन तोड़ती हूं’

'24 मई को मायावती कहेंगी- मैं गठबंधन तोड़ती हूं'

भाजपा नेता नरेश अग्रवाल ने उत्तरप्रदेश के हरदोई में कहा है कि 23 मई को जब (लोकसभा चुनाव) नतीजे आएंगे और 24 को मायावती कहेंगी कि मैं गठबंधन तोड़ती हूं। हमें मुसलमान और अहीर ने धोखा दिया। इसके बाद अखिलेश चौराहे पर बानरों की तरह धूमेंगे और चौराहे पर दौड़ते दिखाई देंगे।

इटावा सीट पर मियां-बीबी के बीच मुकाबला

उत्तरप्रदेश की इटावा सीट पर पति-पत्नी के बीच रोचक चुनाव मुकाबला होने की उम्मीद है। सपा के पूर्व सांसद प्रेमदास कठेरिया के बेटे और गठबंधन प्रत्याशी कमलेश कठेरिया के सामने उनकी पत्नी पूजा कठेरिया ने ताल ठोक दी है। नामांकन के वक्त पूजा ने कहा था कि लोकतंत्र में सभी को चुनाव लड़ने का हक है। प्रेमदास कठेरिया सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के करीबियों में गिने जाते हैं। इटावा में भाजपा से डॉ. रामशंकर कठेरिया और काग्रेंस से मौजूदा सांसद अशोक दोहरे समेत 13 उम्मीदवार मैदान में हैं।

मुलायम-डिंपल के खिलाफ प्रत्याशी नहीं उतारेंगे: शिवपाल

मुलायम-डिंपल के खिलाफ प्रत्याशी नहीं उतारेंगे: शिवपाल

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के नेता शिवपाल सिंह यादव ने कहा है कि हम नेताजी (मुलायम सिंह) और डिंपल यादव के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। आज जो भी हैं नेताजी की बदौलत हैं, उनका सम्मान करते हैं। दूसरी ओर, डिंपल हमारी बहू हैं और यह पारिवारिक मामला है। उन्होंने कहा कि योगीजी ईमानदार मुख्यमंत्री हैं, लेकिन प्रदेश में नौकरशाह बेलगाम हैं। भ्रष्टाचार बढ़ा है और उत्तरप्रदेश की जनता परेशान है।

पाकिस्तान के लिए बेहतर प्रधानमंत्री हैं माेदी: केजरी

पाकिस्तान के लिए बेहतर प्रधानमंत्री हैं माेदी: केजरी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि पाक काे नरेंद्र माेदी से बेहतर दूसरा काेई प्रधानमंत्री मिल ही नहीं सकता। ये माेदी ही हैं, जिन्हाेंने आईएसआई काे पठानकाेट एयरबेस में आकर जांच करने की छूट दी। केजरीवाल ने पाक प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान का भी जिक्र किया, जिसमें उन्हाेंने भाजपा के जीतने औैर माेदी के फिर पीएम बनने की कामना की थी। केजरीवाल ने 14 फरवरी काे सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले के समय काे लेकर भी माेदी सरकार पर सवाल उठाया औैर कहा कि हमला चुनाव से ठीक पहले ही क्याें हुआ?

76 साल के फक्कड़ बाबा 17वीं बार लड़ रहे चुनाव

76 साल के फक्कड़ बाबा 17वीं बार लड़ रहे चुनाव

मथुरा सीट से 76 साल के फक्कड़ बाबा ने नामांकन दाखिल किया है। वे पिछले 16 चुनाव हार चुके हैं। उन्होंने आठ लोकसभा और आठ विधानसभा चुनाव लड़े थे। उन्होंने कहा कि मैं सिर्फ अपने गुरु के आदेश का पालन कर रहा हूं। उन्होंने मुझसे कहा था कि 20वीं बार सफलता जरूर मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here