नई दिल्ली। दिल्ली में सीलिंग के मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को खत लिखकर मिलने का वक्त मांगा है। इससे पहले उन्होंने शुक्रवार को इस मुद्दे को लेकर भूख हड़ताल करने तक की धमकी दी थी।

अपने पत्र में केजरीवाल ने इस बात पर जोर दिया है कि संसद में बिल लाया जाए ताकि कानून में विसंगतियों को दूर करने किया जाए जो सीलिंग के लिए जिम्मेदार है। इसमें यह भी चेतावनी दी गई है कि सीलिंग के चलते बढ़ रही बेरोजगारी राज्य में कानून-व्यवस्था प्रभावित हो सकती है। इसमें लिखा है, ‘कानून की विसंगतियां सीलिंग के लिए जिम्मेदार हैं। यह केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है कि इन विसंगतियों को दूर करे।’ केजरीवाल ने शुक्रवार को धमकी दी थी कि अगर सीलिंग 31 मार्च तक रोकी नहीं गई।

खत में केजरीवाल ने आगे कहा है कि व्यापारी इमानदारी से कमाते हैं और टैक्स देते हैं लेकिन वो सीलिंग की वजह से परेशान हो रहे हैं। इसका अब सिर्फ एक समाधान है। यह बिल संसद में लाया जाना जरूरी है ताकि कानून की विसंगतियां दूर की जा सकें और व्यापारियों बेरोजगारी से बचाया जा सके।

पत्र में आगे लिखा गया है कि व्यापारी भूखमरी की कगार पर हैं और हर दुकान कई लोगों के लिए कमाई का जरिया है। अगर सभी सीलिंग की वजह से बेरोजगार हो जाएंगे और ऐसे में कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ सकती है।

केजरीवाल ने खत में पीएम और राहुल गांधी से मिलने का वक्त मांगते हुए लिखा है कि इस समस्या का समाधान राजनीति से ऊपर उठकर ढूंढना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here