हैदराबाद। तेलंगाना की राजधानी में पिछले हफ्ते 27 वर्षीय पशु चिकित्सक युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले की त्वरित सुनवाई के लिए राज्य सरकार ने बुधवार को विशेष अदालत गठित करने का आदेश दिया। सरकार ने सुझाया कि महबूबनगर अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत को विशेष अदालत में बदलकर मामले की त्वरित सुनवाई की जाए। सरकार ने यह आदेश तब दिया, जब उच्च न्यायालय ने विशेष अदालत के लिए विधि सचिव द्वारा भेजा गया प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। विशेष अदालत महबूबनगर में इसलिए बनाई गई है, क्योंकि मामला पास के शादनगर थाने में दर्ज है। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने मामले की जल्द सुनवाई और दोषियों को कड़ी सजा दिलाने की पहल करने का अधिकारियों को निर्देश दिया था, जिसके तीन दिन बाद यह कदम उठाया गया। हैदराबाद के बाहरी इलाके शमशाबाद में पशु चिकित्सक के साथ हुए दुष्कर्म व हत्या करने जैसी वीभत्स घटना के बाद सामने आई है। 27 नवंबर की रात को चार ट्रक ड्राइवरों और क्लीनर ने मिलकर इस अपराध को अंजाम दिया था, जिन्हें पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, फिलहाल वे न्यायिक हिरासत में हैं। इस क्रूरतम घटना के बाद देशभर में फैले जन आक्रोश अभी थमा भी नहीं था कि पड़ोसी राज्य आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले में एक ऐसा ही अपराध सामने आया है। पुलिस के अनुसार, पूर्वी गोदावरी जिले के जी. वेमावराम गांव में एक 50 वर्षीय विधवा महिला के साथ कथित रूप से सामूहिक दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी गई। पुलिस ने कहा कि तीन लोगों पर आरोप है कि जब पीड़िता अपने घर में अकेली थी, तब इस अपराध को अंजाम दिया गया। पुलिस ने संदिग्धों में से एक को गिरफ्तार कर लिया है और दो अन्य की तलाश जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here