इंदौर. अवैध निर्माण की पुष्टि होने के बाद जीतू सोनी के घर और तीनों होटलों पर गुरुवार सुबह 6 बजे से एक साथ कार्रवाई प्रारंभ की गई। गुरुवार सुबह 12 पोकलेन, 300 निगमकर्मी, 250 मजदूर और भारी संख्या में पुलिस बल की मौजुदगी में जीतू सोनी के अवैध निर्माण को तोड़ने का कार्य प्रारंभ हुआ। कार्रवाई के दौरान माय होम, ओ-टू और बेस्ट वेस्टर्न होटल तक पहुंचने के सभी मार्ग बंद कर दिए गए थे। अवैध निर्माण तोड़ने की कार्रवाई अभी भी जारी है। कार्रवाई के लिए निगम ने 300 कर्मचारियों की टीम बनाई है, जिसे चार अपर आयुक्त लीड कर रहे हैं। इससे पहले बुधावार देर रात पुलिस ने सोनी के सभी होटल खाली करा लिए थे। तुकोगंज स्थित बेस्ट वेस्टर्न के गेस्ट को बाहर कर दिया गया था। पुलिस जीतू के बेटे अमित सोनी और मुक्त कराई गई सभी 67 युवतियों को दो बसों में लेकर माय होम भी पहुंची। उसे भी देर रात तक खाली करा लिया गया। निगम ने अवैध निर्माण पर कार्रवाई के लिए बुधवार रात से ही पोकलेन, जेसीबी, डंपर पहुंचाना शुरू हो गए थे। होटल से मिली घरेलू गैस टंकियां : कार्रवाई के दौरान सोनी के होटल माय होम से घरेलू गौस टंकियों का जखीरा बरामद किया गया। पुलिस का कहना है कि खाद्य विभाग को इस संबंध में सूचना दे दी गई है, इस मामले में वही कार्रवाई करेगा। इस मामले में जीतू सोनी पर एक और प्रकरण दर्ज होने की संभावना है।
ट्रैक्टर में भरकर लाए मजदूर : एक साथ चार स्थानों पर तोड़फोड़ की कार्रवाई के लिए निगम ने 250 से अधिक मजदूरों को बुलाया था। इस मजदूरों को तीन ट्रैक्टरों में बैठाकर तोड़फोड़ के स्थान पर ले जाया गया। मौके पर पहुंचने के बाद अधिकारियों ने मजदूरों को बताया कि उन्हें क्या-क्या तोड़ना है। विरोध करने कोई नहीं आया : अवैध निर्माण को तोड़े जाने का माहौल पुलिस और प्रशासन द्वारा 4 दिन से बनाया जा रहा था। इसका परिणाम यह हुआ की गुरुवार को जब कार्रवाई प्रारंभ हुई तो उसका विरोध करने कोई नहीं आया। वैसे भी मामले से जुड़े हुए कई लोग फरार है, कुछ को गिरफ्तार किया जा चुका है, जो गिरफ्तार नहीं हैं वह अंडर ग्राउंड हो गए है। लोकस्वामी अखबार से जुड़े किसी व्यक्ति का विरोध भी नजर नही आया। 15 साल पुराने नोटिस पर बनाई रणनीति : तहसीलदार द्वारा 2004 में माय होम के मालिक जीतू सोनी को नोटिस जारी किया गया था। रहवासी क्षेत्र में बगैर डायवर्शन कराए होटल संचालित किए जाने के संबंध में यह नोटिस जारी किया गया था। कार्रवाई से पहले नजूल विभाग से फाइलें खंगाली गई और जैसे ही यह नोटिस मिला तो इसे आधार बनाकर रणनीति तैयार की गई ताकि तोड़फोड़ की कार्रवाई को कोर्ट में चुनौती ना दी जा सके।
बंगला : तीन चाैथाई निर्माण तोड़ा : अफसरों के मुताबिक, बंगले में निगम ने 2100 वर्गफीट पर निर्माण की अनुमति दी थी, लेकिन 7 हजार वर्गफीट निर्माण कर लिया गया। कार्रवाई में तीन चौथाई निर्माण ध्वस्त किया जा रहा है। सोनी के आलोक नगर बंगले पर गुरुवार सुबह 5.30 बजे पुलिस व प्रशासन की टीम पहुंच गई थी। बिजली विभाग की टीम भी साथ थी। पोकलेन और जेसीबी ने दोनों छोर से बंगला तोड़ना प्रारंभ किया। बंगले के बीच के हिस्से को छोड दोनों हिस्सों को तोड़ दिया गया।
होटल : बेसमेंट, पार्किंग सब अवैध : तीनों होटलों के बेसमेंट, ग्राउंड फ्लोर पर अतिरिक्त निर्माण के साथ पार्किंग पर कब्जे, अवैध निर्माण सामने आए हैं। सभी अवैध निर्माण तोड़े जा रहे है। सुबह 8 बजे साउथ तुकोगंज स्थित होटल बेस्ट वेस्टर्न को पोकलेन से तोड़ने की कार्रवाई प्रारंभ हुई। एक घंटे बाद मजदूरों की टीम अंदर भेजी गई और देखते ही देखते जगह-जगह से होटल की दीवार गिरा दी गई।
होटल बेस्ट वेस्टर्न के अवैध निर्माण पर आज हाई कोर्ट में सुनवाई : साउथ तुकोगंज स्थित होटल बेस्ट वेस्टर्न में पुलिस अवैध निर्माण को लेकर निगम के नोटिस पर गुरुवार को हाई कोर्ट में सुनवाई भी होनी है। बुधवार को होटल प्रबंधन ने नोटिस को लेकर कोर्ट में अर्जी दायर की तो महज तीन घंटे में निगम ने जवाब पेश कर दिया। निगम ने इसके साथ मौके के फोटो भी पेश किए हैं, जिसमें यह बताया है कि एक बेसमेंट में पब, दूसरे में कैफेटेरिया सहित हर मंजिल पर बड़े पैमाने पर अवैध निर्माण किया गया है।
जीतू की गिरफ्तारी के लिए देवास और उज्जैन में पुलिस ने दी दबिश : एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने बताया कि एमआईजी थाने में दर्ज आईटी एक्ट केस में फरार इनामी आरोपी जीतू सोनी का बुधवार को गिरफ्तारी वारंट जारी हो गया। उसकी तलाश में देवास, उज्जैन और कुछ अन्य शहरों में दबिश दी है। हमारी टीमें लगी हैं, जल्द गिरफ्तार करेंगे। सोनी की वैध-अवैध संपत्तियों की जानकारी निकालने के लिए निगम अफसरों को चिट्‌ठी लिखी है। जो 35 से ज्यादा रजिस्ट्रियां मिली हैं, उन सभी में क्रेता पक्ष जीतू सोनी और कंपनी है, इसलिए सभी बेचने वाले पक्षों को बुलाकर पूछताछ कर रहे हैं। माय होम स्थित ऑफिस को सील कर दिया है। यहां भी 100 से ज्यादा फाइलें व दस्तावेज मिले हैं। इनकी पड़ताल कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here