भोपाल : पीएमटी-2012 घोटाले में सीबीआई ने बुधवार को चार्जशीट पेश की है। CBI ने विशेष न्यायाधीश नीतिराज सिसौदिया की कोर्ट में 73 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। यह चार्जशीट पूरक चालान है। बुधवार को पेश चार्जशीट में 13 नए आरोपी बनाए गए हैं। इनमें मिडिल मैन (मध्यस्थ), चार पैरेंट्स, तीन मुन्ना भाई (छात्र की जगह बैठकर परीक्षा देने वाले) और 3 लाभार्थी शामिल हैं। चार्जशीट में व्यापमं  के तत्कालीन निदेशक पंकज त्रिवेदी, तत्कालीन वरिष्ठ सिस्टम एनालिस्ट नितिन मोहिन्द्रा, तत्कालीन डिप्टी सिस्टम एनालिस्ट अजय कुमार सेन और तत्कालीन प्रोग्रामर सीके मिश्रा के नाम दर्ज हैं। सीबीआई के विशेष लोक अभियोजक सतीश दिनकर ने बताया, जांच निरीक्षक गुरजेंदर सिंह और कमलेश तिवारी ने की है। इसमें सामने आया, सैकड़ों छात्र-छात्राओं के भविष्य से खिलवाड़ करने वाले इस परीक्षा घोटाले में 4 मेडिकल कॉलेजों में पीपुल्स, चिरायु, एलएन और इंडेक्स मेडिकल कॉलेजों की बड़ी भूमिका सामने आई है। इनके प्रबंधन पर आरोप है कि मेरिट में आने वाले छात्र-छात्राओं को सरकारी कोटे की सीटों पर दाखिला देते थे। फिर उनसे सीटें स्वेच्छा से सरेंडर करवाकर काॅलेज की सीटों को मुंह मांगी कीमत पर बेचते थे। अनुमान के मुताबिक व्यापमं के पीएमटी के 2012 घोटाले में करोड़ों का लेनदेन हुआ था। हजारों छात्र-छात्राएं इससे प्रभावित हुए थे। सीबीआई ने जिन 13 लोगों को नए आरोपी बनाए हैं। उनमें से छह को बुधवार और सात को गुरुवार को कोर्ट पेश होने के लिए कहा था, लेकिन बुधवार को 6 में से एक भी आरोपी पेश नहीं हुआ है। कोर्ट में पेश नहीं होने वाले अब इन 6 आरोपियों के खिलाफ कोर्ट गिरफ्तारी वारंट जारी कर सकती है। बता दें कि इससे पहले सीबीआई ने पीएमटी-2012 व्यापमं घोटाले में 592 लोगों के खिलाफ 23 नवंबर 2017 को चार्जशीट पेश की थी। अब पूरक चालान पेश कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here