नई दिल्ली : प्रमुख दूरसंचार कंपनी एरिक्सन की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में 2016 तक 3.5 अरब 5जी कनेक्शन होंगे, जबकि भारत में इनकी संख्या करीब 35 करोड़ होगी। एरिक्सन के नेटवर्क समाधान (दक्षिण पूर्व एशिया, ओशिनिया और भारत) के प्रमुख नितिन बंसल ने कहा कि यदि स्पेक्ट्रम नीलामी अगले साल की शुरुआत में हो गई, भारत को उसका पहला 5जी कनेक्शन 2021 में मिल सकता है। एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट-2020 के मुताबिक दुनियाभर में एक अरब लोग, जो वैश्विक आबादी का 15 प्रतिशत हिस्सा है, उनकी 5जी कवरेज तक पहुंच है। बंसल ने कहा कि 5जी सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम नीलामी की घोषित समयसीमा के अनुसार भारत को उसका पहला 5जी कनेक्शन 2021 में मिल सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक भारत में प्रति माह प्रति स्मार्टफोन उपयोगकर्ता औसत ट्रैफिक 15.7 जीबी है, जो दुनिया में सबसे अधिक है। इस रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2026 तक दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी के पास 5जी सेवाओं तक पहुंच होगी और उस समय तक 5जी ग्राहकों की संख्या बढ़कर 3.5 अरब तक होने का अनुमान है। वहीं, भारत में 5जी ग्राहकों की संख्या उस समय तक 35 करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएगी, जो देश के कुल मोबाइल उपयोगकर्ताओं का 27 फीसदी हिस्सा होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here