New Delhi : भारतीय रिजर्व बैंक ने एटीएम ट्रांजैक्शन पर लिए जाने वाले इंटरचेंज फीस को बढ़ा दिया है। अब जनता लेनदेन पर इंटरचेंज फीस 17 रुपए देनी होगी। इससे पहले यह 15 रुपए थी। वहीं नॉन-फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन की फीस 5 रुपए से बढ़ाकर 6 रुपए कर दी गई है। ये नए रेट्स 1 अगस्त 2021 से लागू हो जाएंगे। बता दें इंटरचेंज फी ऐसा शुल्क होता है। जो बैंक क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से भुगतान करने के लिए मर्चेंट्स से वसूलता है।

पांच बार निशुल्क ट्रांजैक्शन : आरबीआई ने कहा कि कस्टमर अपने बैंक के एटीएम से पांच बार निशुल्क ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। इसमें फाइनेंशियल और नॉन-फाइनेंशियल लेनदेन शामिल हैं। साथ ही ग्राहक अन्य बैंक के एटीएम से बिना शुल्क के पैसों की निकासी कर सकते हैं। मेट्रो शहरों में दूसरे बैंक के एटीएम से तीन और नॉन-मेट्रों में पांच ट्रांजैक्शन पर चार्ज नहीं लगेगा।

इन शुल्कों में होगा बदलाव : फ्री ट्रांजैक्शन से ज्यादा लेनदेन करने पर 1 जनवरी 2022 से 21 रुपए शुल्क ग्राहकों को देना होगा। फिलहाल यह 20 रुपए है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कहा है कि अधिक इंटरचेंज फीस की क्षतिपूर्ति के लिए और आम लागत में बढ़ोतरी के मद्देनजर कस्टमर चार्ज को बढ़ाया जा रहा है। ये बदलाव एक जनवरी 2022 से लागू हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here